LIFE BEYOND: Chapter 1. Alien life, deep time, and our place in cosmic history (4K)

LIFE BEYOND: Chapter 1. Alien life, deep time, and our place in cosmic history (4K)

SUBTITLE'S INFO:

Language: Hindi

Type: Human

Number of phrases: 220

Number of words: 2201

Number of symbols: 8769

DOWNLOAD SUBTITLES:

DOWNLOAD AUDIO AND VIDEO:

SUBTITLES:

Subtitles prepared by human
00:01
प्रोटोकॉल लैब्स द्वारा समर्थित। अपनी जिज्ञासा का पालन करें। मनुष्य जाति को आगे बढ़ाएं। दो संभावनाएं हैं: या तो हम इस ब्रम्हांड में अकेले हैं या हम अकेले नहीं हैं। दोनों ही समान रूप से भयानक हैं। ~ आर्थर सी क्लार्क सारे समय में अंतरिक्ष की सारी आकाशगंगाओं के सभी ग्रहों पर जो सभ्यताएं खड़ी हुईं रात में आसमान में देखा वो देखा जो हम देखते हैं वो सवाल पूछे जो हम पूछते हैं क्या हम अकेले हैं? क्या पृथ्वी जीवन की कहानी में एकमात्र अध्याय है? इसका जवाब अंतरिक्ष और समय में कहीं दूर छुपा है। इतिहास में पहली बार हम असलीयत जानने के करीब हैं यह खोज बतायेगी हम कौन हैं और हम क्या बन सकते हैं। लाइफ बीयौंड पहला अध्याय शुरुआत
02:11
अंतरिक्ष में जीवन की खोज करने के लिए हमें पहले अंदर से शुरूआत करनी होगी। हमारे आसपास चौंका देने वाली जटिलता है। ये कैसे मुमकिन है? जीवन बनाने के लिए क्या लगता है? जीवित जीव रसायन द्वारा बनते हैं। हम रसायनों के भंडार हैं। और रसायन विज्ञान के लिए आदर्श स्थितियां क्या हैं? सबसे पहले हमें ऊर्जा चाहिए। १) ऊर्जा ।।। उदाहरण - सूरज की रोशनी, भूतापीय ऊर्जा पर ज़्यादा नहीं। हमें सही मात्रा में ऊर्जा चाहिए, और यह हमें ग्रहों पर मिलती है, क्योंकि वे उनके सूर्य के न तो ज़्यादा पास हैं न ज़्यादा दूर हैं। हमें रासायनिक तत्वों की महान विविधता भी चाहिए। २) भारी तत्व ।।। उदाहरण - ऑक्सीजन, कार्बन, सल्फर और हमें तरल की आवश्यकता है जैसे पानी। ३) तरल।।। उदाहरण - पानी पर क्यों? गैसों में परमाणु इतनी तेजी से चलते हैं कि वे आपस में नहीं जुड़ते। ठोस पदार्थों में परमाणु हिल ही नही सकते। क्योंकि वे एक-दूसरे से जुड़े रहते हैं। पर तरल पदार्थों में...
03:44
वे एक-दूसरे से जुड़ कर अणुओं को बनाते हैं। पानी क्रमागत उन्नति के लिए बहुत अच्छा है। अणु पानी में घुल कर जटिल चीज़ों का निर्माण करते हैं। ऐसी सही स्थिति कहां मिलती है? ग्रहों पर मिल सकती है। और हमारी प्रारंभिक पृथ्वी लगभग परिपूर्ण थी पृथ्वी - ४०० करोड़ साल पहले। वह महासागरों को बनाने के लिए सूर्य से सही दूरी पर थी। और उन महासागरों के नीचे, पृथ्वी की पपड़ी में दरारों में, शानदार रसायन विज्ञान शुरू हुआ: परमाणुओं का संबंध सभी प्रकारों में। सटीक नुस्खा अभी भी एक रहस्य है, लेकिन जीवन के लिए सामग्री सरल है - ऊर्जा, अणु और पानी। कहीं प्रारंभिक पृथ्वी पर, बुनियादी रसायन विज्ञान जीव विज्ञान बन गया - शायद एक से अधिक बार। पहली कोशिकाओं में पैदा होने की संभावना गर्म ज्वालामुखीय पानी में थी, ऐसी परिस्थितियों में जो कभी जीव विज्ञान के लिए असंभव सोची गईं थीं। जीवन को हम जितना करीब से पढ़ते हैं, हम उसे उतनी ही खतरनाक जगहों पर बढ़ते देखते हैं।
05:59
हमारे ग्रह पर, रोगाणुओं को सबसे प्रतिकूल परिस्थितियों से बचते देखा है। सूखे रेगिस्तान, बर्फीले हिमालय, समुद्र की गहराइयों में। अंतरिक्ष में जीवन वर्षों से पनप रहा है। ऑक्सीजन के बिना। नए शोध से पता चलता है कि जीवन 4 अरब साल पहले उभरा था, जब पृथ्वी एक जानलेवा जगह थी। उस समय पृथ्वी पर हर जगह जवालामुखी फटते थे। और १०० सालों तक हर समय बड़े उल्कापिंड टकराते थे। इन चरम स्थितियों में भी, जीवन ने जल्दी ही एक मुकाम हासिल कर लिया। जैसे ही पृथ्वी ठंडी हुई, जीवन की शुरुआत हुई। क्योंकि ये पृथ्वी पर जल्दी हुआ हमे लगता है ये दूसरे ग्रहों पर भी जल्दी होगा। पृथ्वी की कहानी हमें आशा देती है कि ब्रह्मांड में जीवन सामान्य होगा।
07:48
यह हमें सिखाती है कि जीवन तेजी से अभिनय कर रहा है, दृढ़ है, और बुनियादी, आम सामग्री से बना है। ४ अरब साल के अलगाव के बाद, अंतरिक्ष में जीवन की खोज शुरू हो गई। जहां पानी है वहां जीवन है तो हम पृथ्वी जैसे समुद्री ग्रहों की खोज कर रहे हैैं। पृथ्वी जैसे ग्रहों की खोज शुरू हो चुकी है, और इसके परिणाम उत्तेजित करनेवाले हैं। कैपलर-६२एफ: दूरी: १२०० प्रकाश वर्ष। आकार: १.५× पृथ्वी का आकार। तापमान: ≥ -85°f (-65° celcius) उम्र: ~ ७ अरब साल। हो सकता है पानी वाला हो ट्रैपिस्ट-१डी: दूरी: ५१ प्रकाश वर्ष। आकार:०.७७× पृथ्वी का आकार। तापमान: ≥ 20°f (6.66° Celcius) उम्र: ७.५ अरब साल। पानी वाला हो सकता है। टीगार्डन-बी: दूरी: १२ प्रकाश वर्ष। आकार: १.०७× पृथ्वी का आकार। तापमान: 20°f (6.66° Celcius) उम्र: २.५ अरब साल। हो सकता है पानी हो। के२-१८बी: दूरी: १११ प्रकाश वर्ष। आकार: २.७× पृथ्वी का आकार। तापमान: 100-116°f (37.7-46.6° Celcius) इस ग्रह पर भाप मौजूद है।
09:10
हमने मुश्किल से सतह को खरोंच दिया है। प्रकृति का रहस्य अथाह है। हमें पता है कि हमारी आकाशगंगा में पानी का भंडार है जटिल रसायनों और कार्बनिक अणुओं का भंडार है जिन चीजों को हम जानते हैं जो इस ग्रह पर जीवन के लिए ज़रूरी हैं वे हमारी आकाशगंगा में अधिक मात्रा में उपलब्ध हैं। क्या हमारे ग्रह पर जैसा हुआ वैसा दूसरे ग्रहों पर भी हुआ है? नंबरों को देखते हुए, एलियंस का अस्तित्व लगभग अपरिहार्य लगता है। नए शोध से पता चला है कि ¼ तारों के पास पथरीले ग्रह होते हैं। जो उनकी तरल पानी होने तक की दूरी पर परिक्रमा करते हैं। हमारी मिल्की वे में ही ५० अरब पृथ्वी जैसे ग्रह हैं। पूरे ब्रह्मांड में, रहने योग्य ग्रहों की संभावित संख्या चौंका देने वाली है: १००,०००,०००,०००,०००,०००,०००
10:55
कल्पना कीजिए कि प्रकाश का प्रत्येक फ्लैश प्रतिनिधित्व करता है एक पृथ्वी जैसा ग्रह। आपको यह एनिमेशन १ अरब साल से ज़्यादा समय के लिए देखना पड़ेगा उन सब को देखने के लिए। प्रत्येक का इतिहास पृथ्वी जैसे ही खास। १०० अरब से भी ज्यादा कैमिकल के मिश्रण, सालों तक बनते हैं। पृथ्वी जैसे ग्रहों की तुलना पृथ्वी पे सारे रेत के कणों से ज़्यादा है। ग्रहों की इस बहुतायत के बीच, कई जीवन के लिए घातक होंगे। ऐसे भी ग्रह हैं जो या तो बहुत ठंडे हैं या गर्म हैं। या जिनमें जानलेवा गैसे हैं। कुछ का वातावरण होगा ही नही, या बहुत घातक होगा कभी सोचा जाता था शुक्र ग्रह पर जीवन है। पर अब पता चला की उसका वातावरण जानलेवा है।
13:20
पर जीवन शायद हैबिटेबल ज़ोन तक सीमित न हो। सूर्य की गर्माहट से दूर, विशाल गैस युक्त ग्रहों के चंद्रमाओं पर कुछ मिल सकता है। उनकी ऊर्जा सूर्य से नही, गैस जाइंट के गुरुत्वाकर्षण बल से आती है। उसकी खिंचाव से आती है। शनि के चांद, ऐन्सैलेडस की सतह के भीतर एक विशाल महासागर है। जहां हाइड्रोथर्मल वेंट्स के द्वारा जीवन का रसायन निकलते हैं। टाइटन विशेष रूप से आकर्षक है - बुध से बड़ा मीथेन कि झील और और्गैनिक कंपाउंड मौजूद हैं २०२६ में नासा टाईटन पर जीवन की खोज करने के लिए एक ड्रोन भेजेगा। हमारी आकाशगंगा में ऐसे १०० ट्रिलियन ऐसे चंद्रमा हो सकते हैं, ग्रहों की तुलना में १०० गुना ज्यादा। कुछ तो पृथ्वी के बराबर भी हो सकते हैं, वायुमंडल और सतह पर पानी के साथ। इतनी सारी जीवन की संभावनाओं के साथ ऐसा लगता बस कुछ ही समय बचा है कुछ बड़ा खोज निकालने का।
14:51
कुछ सोचते हैं हम खोज चुके हैं। ३० जून, १९७६ को, मार्स पर वाइकिंग लैंडर ने कुछ अनोखा ढूंढ निकाला। पोषक तत्वों के साथ इंजेक्ट होने के बाद, मंगल की मिट्टी के नमूनों ने हस्ताक्षरित रेडियोधर्मी गैस को निष्कासित कर दिया - बिल्कुल पृथ्वी की मिट्टी की तरह। निष्फल मिट्टी - कैलिफोर्निया की मिट्टी - मंगल की मिट्टी क्या यह संकेत एक प्राकृतिक घटना थी, या हमारी पहली एलियन जीव विज्ञान के साथ मुठभेड़? मंगल, या सौरमंडल में कहीं भी केवल एक ही जीवाणु की खोज, संकेत देगी कि पूरी श्रृंखला विकास लौकिक है रसायन और जीव विज्ञान हर जगह काम करता है।
16:08
उस मामले में, जीवन का निर्माण ब्रह्मांड में कहीं भी अपवाद से अधिक, नियम होगा। अगर हमने लौकिक जीवन की खोज अब तक नही की है, तो उसे करने में ज्यादा समय नहीं लगेगा। नासा के वैज्ञानिक सोचते हैं हम खोज के बेहद करीब हैं। हम सब के जीवन काल में, ये समझ जाएंगे कि सौरमंडल के दूसरे खगोलीय पिंडों में भी जीवन है। हम निहितार्थ को समझेंगे यहाँ पृथ्वी पर जीवन के विकास के लिए। हम तारों के आसपास ऐसे ग्रहों को ढूंढेंगे जिनको देख हम कह सकते हैं: हम अभ्यस्तता के संभावित संकेत उनके वायुमंडल में देखते हैं। ये सब आज से १०-२० साल में होएगा। कितना रोमांचक है ना? हम ऐसी चीज ढूंढने जा रहें हैं जिनके बारे में लोगों ने हजारों सालों से सोचा: "क्या हम अकेले हैं"? और अब हम इसका उत्तर देने के बहुत पास हैं। अगर हमने लौकिक जीवन ढूंढ लिया, तो हम अपने बारे में क्या जानेंगे? जीवन की कहानी में पृथ्वी कौनसा अध्याय है? ब्रह्मांड करीब १४ अरब साल पुराना है।
17:52
और हमारी आकाशगंगा १२ अरब साल पुरानी है। तो, वहाँ जीवन हो सकता है जो यहां के जीवन से कई गुना ज्यादा उन्नत हो क्या पृथ्वी ब्रह्मांड में देर से आई है? जीवन कितना पुराना हो सकता है? पहले कुछ १० लाख सालों तक, ब्रह्मांड जीवन के लिए बहुत गर्म था। उसका तापमान आपको ज़िन्दा उबाल देता। जब तापमान जीवन के लिए सही हुआ तब कोई तारे या ग्रह नहीं थे, बस हाईड्रोजन के बड़े बादल थें। ७० लाख सालों के बाद, गुरुत्वाकर्षण बल ने उन बादलों को घुमाया जिससे पहले तारे जन्में। पहले तारे बड़े और चमकदार थें, पर उन्हें देखने वाला कोई नहीं था। जो कीमती तत्व बिग बैंग भी न बना पाया वो इन तारों के अंदर बन रहें थे। वो तत्व जो बिग बैंग में बने थें हाइड्रोजन, हीलियम और लीथियम थें। जो चीज़े आपके जीवन को जीने लायक बनाती हैं, वो तत्व बिग बैंग में बने थें।
20:15
वो अकेली जगह जहां वे बने थें वो उनके तारों के गर्म कोर में थी। और वो तभी आपके शरीर में पहुंच सकते थें अगर वो तारे फटते। पहले तारों की विस्फोटक मौतों ने ब्रह्मांड में जीवन की सामग्री भर दी। उनकी राख से नए तारे पैदा हुए, इस बार पथरीले ग्रहों के साथ। उनकी राख से नए तारे पैदा हुए, इस बार पथरीले ग्रहों के साथ। यह वो पल था जब जीवन की सामग्री बनी ~१३.७ अरब साल पहले। कुछ मानते हैं जीवन इससे पहले, गर्म ब्रह्मांड में भी उत्पन्न हो सकता था। जैसे ही बिग बैंग की गर्माहट जाने लगी, ब्रह्मांड एक गोल्डिलौक्स दौर से गुज़रा। बिग बैंग के कुछ १५ लाख साल बाद ब्रह्मांड का तापमान 75°f (23.8° Celcius) लाखों सालों तक ये हर दिशा में गर्म था, जैसे एक कभी खत्म न होने वाले गर्मी के दिन की तरह। सिध्दांत रूप में, तारे और ग्रह अंतरिक्ष के बेहद घने इलाकों में बन सकते हैं। सिध्दांत रूप में, तारे और ग्रह अंतरिक्ष के बेहद घने इलाकों में बन सकते हैं।
22:15
अगर ऐसे इलाके थें तो पानी कहीं भी बह सकता था, बिना तारों के ग्रहों पर भी जो किसी भी तारे से दूर थें। क्या ये जीवन की शुरुआत थी? एलियंस बिग बैंग की ऊर्जा द्वारा जीवित रहते थे? दूर कहीं एक ग्रह होगा जिसका जीवन ब्रह्मांड जितना पुराना है। 10 अरब वर्ष के हेड स्टार्ट के साथ, ब्रह्मांड हमारे अपने से कहीं अधिक उन्नत जीवन के साथ हो सकता है। दशकों तक खोजने के बाद भी, एलियंस के किसी भी संकेत की पुष्टि, बुद्धिमान या बुद्धिहीन, नहीं हुई है। तो कहां हैं सब? क्या हम सच में अकेले हो सकते हैं? शायद आदिम जीवन सामान्य है, लेकिन बुद्धिमान जीवन बहुत दुर्लभ है।
24:04
हो सकता अंतरिक्ष बात करने के लिए बहुत बड़ा हो। या शायद हम पहले हों। क्या हम जीवन के इतिहास के पहले अध्याय हैं? ब्रह्मांड अभी छोटा है और ग्रहों की एक बड़ी संख्या अभी पैदा नहीं हुई है। जीवन की सामग्री अगले १,००,००,००,००,००,००,००० सालों तक बनती रहेगी। इस दृष्टिकोण से, हम शुरुआत है: जीवन की सिम्फनी का प्रारंभिक माधुर्य। आखिरी तारा मरता है - १०० ट्रिलियन साल हमारे बाद क्या आ सकता है? रैड ड्वार्फ तारे १० ट्रिलियन सालों तक रह सकते हैं, अपने ग्रहों को वर्षों तक ऊर्जा देते हुए।
25:55
जीवन इन समय में बहुत अधिक संभावित है, जहां स्थिति लंबे समय तक स्थिर रहती है। जो भी जीवन ऐसे तारों के पास होगा उसे घातक प्रज्वाल झेलने होंगे। जो भी जीवन ऐसे तारों के पास होगा उसे घातक प्रज्वाल झेलने होंगे। इनमें से बहुत से ग्रह ज्वारबंध हों डे - एक हिस्सा हमेशा सूर्य की ओर, दूसरा हमेशा अंधकार की ओर। इनमें से बहुत से ग्रह ज्वारबंध हों डे - एक हिस्सा हमेशा सूर्य की ओर, दूसरा हमेशा अंधकार की ओर। पर जैसा पृथ्वी ने सिखाया है, जीवन कहीं भी पनप सकता है। यदि जीवन को अरबों साल दे दिए जाएं, तो वह करता रूप ले सकता है? एक दिन, किसी तरह, ज़िन्दगी की कहानी खत्म हो जाएगी। अगर हम इस कहानी के पहले अध्याय हैं, तो हमारे पास यह मौका है कि हम जीवन की आग को आगे फैला सकें। और अगर जीव विज्ञान भविष्य में रहता है, तो हम एक खास पल में जी रहें हैं। आगे के अध्यायों में ब्रह्मांड अलग दिखेगा।
28:18
अंतरिक्ष के विस्तार के कारण तारे दिखाई नहीं देंगे, रात में बस अंधेरा होगा। हो सकता है तब के जीव सोचे ब्रह्मांड के पुराने दिनों में रहना कैसा लगता होगा? हम खुशकिस्मती से जवाब जानते हैं। हमें बस ऊपर देखना है। मैलोडीशीप द्वारा बनाया गया। लाइफ बीयैंड लाइफ बीयौंड में अगली बार - बुद्धिमान जीवन से संपर्क करना ।। ब्रह्मांड के अंत में बचना ।।। एलियन जीवन का भौतिक विज्ञान ।।।। और बहुत कुछ Subtitles by Ansh Saxena (Factz Overdose) be curious, stay curious ;) Subtitles by the Amara.org community

DOWNLOAD SUBTITLES: